ब्लौग सेतु....

3 जुलाई 2017

भँवर..........निर्मला शर्मा 'निर्मल'










समुद्र की गहराई तक 
पहुँचने के लिए
मुझे इक भँवर चाहिए। 
लहरों के सहारे 
पार लग जाऊँ 
यह इच्छा नहीं है मेरी,
मुझे तो मंथन चाहिए 
अथाह प्यार चाहिए 
सागर की गहराई का 
जिसमें डूब कर 
उभर जाऊँ मैं।
-निर्मला शर्मा 'निर्मल'

7 टिप्‍पणियां:

  1. मुझे तो मंथन चाहिए.....
    सुंदर अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  2. प्यार की गहराई बस डूबने के लिए है ... उभर तो कोई पाता ही नहीं ... भावपूर्ण रचना है ...

    उत्तर देंहटाएं
  3. साहसी प्रयोग जीवन में ऊर्जा का संचार करते हैं ,संभावनाओं के नए द्वार खोलते हैं ,रोमांच पैदा करते हैं। सुन्दर अभिव्यक्ति। बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  4. साहसी प्रयोग जीवन में ऊर्जा का संचार करते हैं ,संभावनाओं के नए द्वार खोलते हैं ,रोमांच पैदा करते हैं। सुन्दर अभिव्यक्ति। बधाई।

    उत्तर देंहटाएं

स्वागत है आप का इस ब्लौग पर, ये रचना कैसी लगी? टिप्पणी द्वारा अवगत कराएं...